बाल केन्द्रित क्रिया आधारित शिक्षा-22 (संस्कृत भाषा शिक्षण)

 – रवि कुमार संस्कृत भाषा विश्व की प्राचीनतम भाषा है और अनेक भाषाओं की जननी है। भारतीय संस्कृति, परम्परा, इतिहास, मान बिदु, जीवन मूल्य आदि…

EDUCATION AND SWADESHI MODEL

 – G R Jagadeesh Any country should have its own aim and vision in order to achieve progress. This contains both ideological and realistic dimensions…

भारतीय शिक्षा – ज्ञान की बात-12 (करणों का विकास)

-वासुदेव प्रजापति ज्ञानार्जन के करणों में हमने बहि:करण एवं अन्त:करण को जाना। बहि:करण में कर्मेन्द्रियों व ज्ञानेन्द्रियों के कार्यों को समझा और अन्त:करण में मन,…

पाती बिटिया के नाम-6 (लाल टोपियों पर भारी पड़े एक ‘टोपे’1857 के तात्या)

– डॉ विकास दवे प्रिय बिटिया! महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के येवला ग्राम के निवासी श्री पांडुरंग भट श्रुति और स्मृतियों के उद्भट विद्वान थे।…

Relevance of the Bharatiya way of life in the present context-2

 – Vasudev Prjapati  – Translated in English by Avnish Bhatnagar In the Bharatiya thought process, life is believed to be one, single, continuing, integral, which…

शिक्षक कक्षा या विषय के नहीं, विद्यार्थी के!

 – भालचन्द्र रावले इस वर्ष 5 जुलाई को गुरु पूर्णिमा महोत्सव है। प्रतिवर्ष आषाढ़ मास की पूर्णिमा को यह उत्सव मनाया जाता है। इसे उत्सव क्यों माना जाए, क्योंकि इसी दिन शिष्य अपने गुरु का पूजन कर, अभ्यर्थना कर अपने…

Teaching for Nation-Building

 – Asit Mantry Teacher plays the key role in any educational system. Education without a teacher is just like a body without a soul, skeleton…

तस्मै श्रीगुरवे नम:

 – वासुदेव प्रजापति अखण्डमण्डलाकारं व्याप्तं येन चराचरम्। तत्पदं  दर्शितं  येन  तस्मै  श्रीगुरवे  नम।। उस महान गुरु का अभिवादन! जो सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड में व्याप्त है, चर…

भरत सरिस को राम सनेही – 2

 – डॉ० हिम्मत सिंह सिन्हा भरत के व्यक्तित्व, भ्रातृ प्रेम का सही-सही दर्शन हमें राम वन गमन के पश्चात् ही होता है। उसके पहले उनका…

भरत सरिस को राम सनेही – 1

 – डॉ० हिम्मत सिंह सिन्हा रामायण के सभी पात्रों में भगवान राम के स्नेह के सबसे श्रेष्ठ पात्र भाजन भरत हैं। भरत का सारा चरित्र…