सुसंगति मिलती रहे

 – दिलीप बसंत बेतकेकर “तैयार हो गये क्या? जल्दी करो, देर हो रही है”, माँ ने अजय को चौथी बार याद दिलाते हुए कहा, परंतु…

पाती बिटिया के नाम-34 (रंग कैसे-कैसे?)

 – डॉ विकास दवे प्रिय बिटिया! रंगों के पर्व होली की ढेरों शुभकामनाएँ। जब बात होती है रंगों की तो याद आने लगती है धमाल,…

बाल केन्द्रित क्रिया आधारित शिक्षा-27 (21वीं सदी के अभिभावकों की शिक्षा)

 – रवि कुमार ‘अभिभावक’ शब्द पर विचार करते हैं तो ध्यान में आता है माता-पिता। एक शब्द और चलता है – ‘पाल्य या पालक’ अर्थात्…

अपयश को भी झेलो!

 – दिलीप वसंत बेतकेकर अपयश किसको अच्छा लगता है? किसी को भी नहीं। प्रत्येक व्यक्ति को सफलता और यश ही चाहिए परन्तु क्या वास्तव में…

पाती बिटिया के नाम-33 (गणपति बप्पा-मोरिया!!!)

– डॉ विकास दवे प्रिय बिटिया! लो गणेश चतुर्थी आ पहुँची। गणपति बप्पा मोरिया के नारों के साथ एक बार फिर लगातार दस दिनों तक…

पाती बिटिया के नाम-32 (देव पशु?)

 – डॉ विकास दवे प्रिय बिटिया! वैसे तो ‘पशु’ शब्द ही अपने आप में निम्रता का सूचक होता है किन्तु क्या जब भी आप किसी…

पर्व और परीक्षा

 – दिलीप वसंत बेतकेकर अपने देश मे वर्षभर अनेक पर्व-उत्सव बड़े उत्साह से, आनंदपूर्वक, धूम-धड़ाके से मनाये जाते हैं। दीपावली, गणेशोत्सव आदि की आतुरता के…

पाती बिटिया के नाम-31 (शक्तिशाली बाल मन)

 – डॉ विकास दवे प्रिय बिटिया! आपसे पूर्व की चिट्ठी में चन्द्रशेखर आजाद पर चर्चा के दौरान कहा था कि बचपन वह समय है जब…

पाती बिटिया के नाम-30 (बाहुबली मस्तिष्क)

– डॉ विकास दवे प्रिय बिटिया, पढ़ाई के दौरान कई बार आप यह शिकायत करते पाए जाते हैं – “इतना सारा पाठ्यक्रम है हम क्या-क्या…

पालक, पालय और पैसा

– दिलीप वसंत बेतकेकर “Money is a terrible master but an excellent servant.” “पैसा मालिक के रूप में भयानक है, परन्तु नौकर के रूप में…