রাষ্ট্রবাদী রবীন্দ্রনাথ

: কল্যাণ গৌতম রবীন্দ্রনাথের অনুভবে ভারতবর্ষের মর্যাদা কোথায় তার একটি উদাহরণ দিই। রবীন্দ্রনাথ তখন ইংল্যান্ডের কেনসিংটনে রয়েছেন। কবিবন্ধু ডি. এল রায়ের পুত্র দিলীপ কুমার রায়ও…

डॉ. भगवानदास का शिक्षा-दर्शन

✍ डॉ. विकास कुमार पाठक शिक्षा, दर्शन, आध्यात्म और संस्कृति की नगरी काशी अनेक विभूतियों की धरती रही है। इसी धरती पर जन्में काशी के…

गिजुभाई बधेका के बाल शिक्षा के प्रयोग

✍ अनिल रावल 20वीं शताब्दी के आरंभ में भारत में अंग्रेजी शिक्षा पद्धति का कार्य शुरू हो गया था। विद्यालय में विद्यार्थियों को केवल साक्षरी…

दत्तोपंत ठेंगड़ी जी और भारतीय शिक्षा

✍ विकास चौधरी माननीय दत्तोपंत ठेंगड़ी जी के भारतीय शिक्षा पर विचारों से अवगत तब हुए, जब 20 अगस्त, 1985 को ससंद के पटल पर…

व्यावहारिक वेदान्त  की अमर ज्योति स्वामी रामतीर्थ

– गोपाल माहेश्वरी “जीवन दीप जले ऐसा सब जग को ज्योति मिले, जीवन दीप जले।” संघ में गाए जाने वाले इस गीत के भाव जिनके…

शैक्षणिक कुशलताएँ – प्रयत्न एवं परिणाम

✍ राजेन्द्र सिंह बघेल पिछले दिनों दिल्ली में एक पुराने मित्र से भेंट हुई। औपचारिक शिष्टाचार वार्ता के क्रम में ध्यान आया कि इतने वर्षों के बाद…

भारतीय मनीषियों के विचारों से भारत पुन: बनेगा विश्वगुरु

शिक्षा मनुष्य का परिष्कार करती है। शिक्षा ही उसके गुणों का संवर्द्धन कर देवत्व की ओर प्रेरित करती है। किन्तु शिक्षा के उद्देश्य उसके दर्शन…

भारतीय शिक्षा – ज्ञान की बात 79 (पाश्चात्य शिक्षा की देन: हीनता बोध)

 ✍ वासुदेव प्रजापति हम भारतवासी स्वयं को आर्य कहते थे और मानते थे। आर्य अर्थात संस्कारित, आर्य अर्थात श्रेष्ठ। वह व्यक्ति जो भौतिक स्तर से…

Assessment in School Education as per NEP-2020

 ✍ D. Ramakrishna Rao NEP-20, envisages a big shift in the way we educate, as quality of learning is the core issue. It emphasizes more…

होलिकोत्सव का पौराणिक एवं वैज्ञानिक महत्व

✍ विनोद जौहरी बसन्त ऋतु का आगमन, चमकीली गुनगुनी धूप, हवा में उड़ते हुए पुकेसरों की भीनी−भीनी मनभावन सुगंध, पतझड़ की निष्ठुरता झेल चुकी ठूंठ…