मदन मोहन मालवीय जी के सपनों का काशी हिन्दू विश्वविद्यालय (बीएचयू)

– रवि कुमार महात्मा गांधी ने उन्हें अपना बड़ा भाई कहा और “भारत निर्माता” की संज्ञा दी। एक ऐसी महान आत्मा, जिन्होंने आधुनिक भारतीय राष्ट्रीयता…

Educational philosophy of Madan Mohan Malviya – 25th December Birth anniversary special

 – Dr Kuldeep Mahandiratta Born on 25 December 1861 in Teerth-Raj Prayaga, Madan Mohan Malviya Ji, is remembered for protecting Bharatiya culture and spreading of…

पुस्तक परिचय : भारतीय शिक्षा ग्रंथमाला

पुस्तक परिचय : भारतीय शिक्षा ग्रंथमाला  – वासुदेव प्रजापति पुस्तक का नाम : भारतीय शिक्षा ग्रंथमाला लेखन एवं संपादन : इंदुमति काटदरे, अहमदाबाद सह संपादक…

भारत में वैचारिक प्रदूषण

 – दिलीप बेतकेकर पूरी दुनिया प्रदूषण से ग्रस्त है। प्रदूषण को रोकने के लिए विभिन्न प्रयास चल रहे हैं। विश्वस्तर से लेकर छोटे-छोटे शहरों में…

श्री गुरु नानक देव जी के त्रि-सूत्री सिद्धांत – प्रकाश उत्सव विशेष

– डॉ० नरेंद्र सिंह विर्क भारतीय पंरपरा के अनुसार, जब दुनिया में अन्याय, उत्पीड़न, सामाजिक, आर्थिक और धार्मिक स्थिति अधोगति में जाने लगे तो उस…

बाल केन्द्रित क्रिया आधारित शिक्षा-17 (भाषा कौशल में श्रवण, कथन व वाचन)

यदि यह पूछा जाए कि बालक सबसे पहले क्या बोलना सीखता है, तो उत्तर आएगा ‘माँ’ बोलना। बालक ‘माँ’ बोलना नहीं सीखता, वह अनुकरण करता…

कक्षा में शैक्षिक परिणाम-एक अनुभव

 – राजेन्द्र बघेल प्रत्येक मनुष्य अपने द्वारा किए गए कार्य का अच्छा परिणाम चाहता है। इसके लिए वह विभिन्न प्रकार के प्रयत्न भी करता है।…

छात्र-छात्राओं के विकास में शारीरिक शिक्षा की भूमिका

– शिव कुमार शर्मा ‘शरीरमाद्य खलु धर्मसाधनम्’ हमारी परम्परा में एक महत्वपूर्ण उक्ति है। धर्म, अर्थ, काम व मोक्ष रूपी पुरुषार्थ की प्राप्ति का साधन…

बाल केन्द्रित क्रिया आधारित शिक्षा-16 (लेखन कब और कैसे सिखाएं)

 – रवि कुमार ‘आपने लेखन कब सीखा’ यह प्रश्न यदि किसी वयस्क से पूछेंगे तो उत्तर आएगा – पहली कक्षा में। और यह पूछेंगे कि…

मातृभाषा के बिना मौलिक विचारों का सृजन सम्भव नहीं

– देशराज शर्मा जन्म लेने के बाद मानव जो प्रथम भाषा सीखता है उसे उसकी मातृभाषा कहते है। मातृभाषा, किसी भी व्यक्ति की सामाजिक एवं…