दिशा बोध – राष्ट्र के सम्मुख क्या-क्या चुनौती है और उसका निराकरण क्या है?

 – मा. रंगाहरि (झिंझौली में संपन्न विद्या भारती साधारण सभा बैठक, चैत्र युगाब्द 5102 के उद्घाटन अवसर पर विद्या भारती के मार्गदर्शक मा. रंगहरि जी…

पर्यावरण संरक्षण के विषय में क्या है भारतीय दृष्टि

 – रवि कुमार आज पर्यावरण की चर्चा सर्वत्र है । सामान्य व्यक्ति से लेकर देश के बुद्धिजीवी तक और देश ही नहीं दुनियाँ के बुद्धिजीवी…

भारत में भारतीय शिक्षा को पुनर्स्थापित करने वाले : विवेकानंद – 4 जुलाई, पुण्यतिथि विशेष

 – रवि कुमार आज शिक्षा की चर्चा सर्वत्र है । देश भर में जिस प्रकार की शिक्षा पद्धति चल रही है उसका गुरुत्व केंद्र भारत…

अभिनव भारत की संकल्पना और शिक्षा-3

– अवनीश भटनागर शिक्षा के समक्ष चुनौती : आजकल वाट्सप पर अनेक सन्देश आते हैं । मेरे एक मित्र ने मुझे एक मेसेज भेजा, मैं…

अभिनव भारत की संकल्पना और शिक्षा-2

 – अवनीश भटनागर पंचकोशात्मक विकास भारत में शिक्षा जीवन विकास के लिए दी जाती रही है । उपनिषद् में व्यक्ति का व्यक्त्त्वि पंचकोशात्मक बताया है…

अभिनव भारत की संकल्पना और शिक्षा-1

– अवनीश भटनागर शिक्षा एक ऐसा पक्ष है, जिससे किसी भी राष्ट्र की प्रगति या अवनति जुड़ी हुई है । राष्ट्र के सर्वांगीण विकास में…

राष्ट्र की सम्पर्क भाषा के रूप में हिन्दी का मानकीकरण अपेक्षित

भारत जैसे विशाल देश में, जहाँ संविधान में 18 भाषाओं को आठवीं अनुसूची में रखा गया है और 800 से अधिक भाषाएँ बोली-समझी जाती हों,…

Making the Education Nation- Centric

On the occasion of the 150th birth anniversary of Swami Vivekananda being celebrated all over the country and the World, it is the high time…

विद्यार्थी जीवन एक आदर्श जीवन कैसे बने?

सुखार्थीः चेत् त्यजेत् विद्याम् विद्यार्थीः चेत् त्यजेत् सुखम् ॥ अर्थात् यदि सुख की कामना है तो विद्या की आशा छोड़ दें और यदि विद्या की कामना…

शिक्षा का वर्तमान स्वरूप : भौतिक व व्यक्ति केन्द्रित

शिक्षा की प्रक्रिया के माध्यम से ही मानव शिशु का शारीरिक, मानसिक, बौद्धिक, नैतिक एवं आध्यात्मिक विकास होकर वह समाज में उपयुक्त स्थान ग्रहण करता…