जोशीला लक्ष्मण जोशी

  – गोपाल माहेश्वरी प्राण छोड़े प्रण न तोड़े वीर कहलाते वही हैं। काँच बिखरे टूट कर, हर चोट हीरे ने सही है।। वह युग…

शांति घोष-सुनीति चौधुरी

धन्य वे शिक्षक, सिखाते देश पर बलिदान होना। राष्ट्र पहले बाद में हम, ध्येय के हित प्राण खोना।। आपने विद्यालय के प्रधानाचार्य से उनके कक्ष…

सीताराम-शंकर और ढोंढी का बलिदान

 – गोपाल माहेश्वरी छोटे-छोटे जौ-तिल-तण्डुल मिल आहुति बन जल जाते हैं। तो महायज्ञ में उपयोगी सहयोग सपफल कर पाते हैं। स्वतंत्रता प्राप्ति के प्रयत्न शस्त्र…

बब्बर अकाली-दलीप सिंह

 – गोपाल माहेश्वरी देशद्रोही देश के दुश्मन से भी घातक अधिक है। राह के काँटे कुचलते जो बढ़ें हम वो पथिक हैं। “आजादी कभी गिड़गिड़ाते…

साहसी बालिका मैना

 – गोपाल महेश्वरी ज्वालामुखी पिता की बेटी, ज्वाला बनकर ही पलती है। उसे कहाँ भय जल जाने का, जिसमें क्रांति-ज्वाल जलती है। भगवान की पूजा…