शब्द सामर्थ्य-11, थ, द

शब्द अर्थ

थहराना भय से कांपना
थाती अमानत

दंड-भंग शासन का उल्लंघन
दंतकथा कल्पित कथा
दक्षिणाचारी सदाचारी
दयार्द्र दया से पसीजने वाला
दर्प अभिमान
दशांत बुढ़ापा
दस्युवृत्ति लुटेरी प्रवृत्ति
दांपत्य पति और पत्नी का
दामिनी बिजली
दायित्व जिम्मेवारी
दास्य दासता
दिगंत आकाश का अंतिम सिरा
दिग्व्याप्त सभी दिशाओं में फैला
दिनांकित तारीख़ लिखा हुआ
दिलासा आश्वासन
दिव्य अलौकिक
दिशाभ्रम दिशा का भ्रम
दीदार दर्शन
दीर्घश्रुत दूर-दूर तक विख्यात
दुःखद दुःख दायक
दुःखांत दुःखमय अंत
दुःशील बुरा स्वभाव
दुःसाध्य जिसे साधना कठिन हो
दुचित असमंजस में
दुरंत अपार, दुर्गम
दंडविधान दंड देने की व्यवस्था
दंभ अधिक अभिमान
दत्त दिया हुआ
दरबारदारी खुशामद
दर्श दर्शन
दशांतर जीवन की विभिन्न अवस्थाएं
दहन जलना
दाक्षिण्य उदारता
दाय उत्तराधिकार
दारिद्र्य गरीबी
दाहन जलाना
दिग्दर्शक दिशाओं का ज्ञान करानेवाला
दिधि धैर्य
दिनातीत अप्रचलित
दिवंगत मृत
दिव्य-चक्षु ज्ञान
दिष्ट बतलाया हुआ
दीप्ति प्रकाश, चमक
दीर्घ-सूत्रता सुस्ती
दुःखदग्ध अत्यंत दुःखी
दुःखार्त दुःख से पीड़ित
दुःशोध जिसका सुधार कठिन हो
दुःस्थ दरिद्र
दुधारी दोनों तरफ धार वाली तलवार
दुरधिगम समझने में कठिन
दंडादेश सजा
दक्ष निपुण
दत्तचित्त एकाग्रचित्त
दर-हकीकत वास्तव में
दलित जिसे कुचला गया हो
दशाब्दी दस साल
दांति नम्रता
दातव्य दान
दायित दिलाया हुआ
दारुण भयंकर
दिक्-साधन उचित दिशाज्ञान का साधन
दिग्भ्रम दिशा भ्रम
दिनचर्या दैनिक नियमित कार्य
दिलावर हिम्मती
दिवारात्र दिनरात
दिव्य-दृष्टि अलौकिक दृष्टि जिससे भूत, वर्तमान भविष्य का ज्ञान हो जाए
दीक्षांत दीक्षा देना
दीयमान दिया जाने वाला
दीर्घीकरण अधिक विस्तार देना
दुःखलभ्य दुःख से प्राप्त
दुःशासन बुरा राज्य प्रबंध
दुःसंकल्प गलत इरादा
दुःस्वभाव खराब स्वभाव
दुनियादारी सांसारिक आचरण
दुरधीत अशुद्ध अध्येता
दुराग्रह अनुचित हठ
दुरूह कठिन
दुर्दैव दुर्भाग्य
दुर्विपाक दुष्परिणाम
दृष्टिगत जो दृष्टि के दायरे में आ जाये
देशज जिसका जन्म अपने देश में हो
दैनिकी / दैनन्दिनी डायरी
दैवयोग संयोग
द्रवीभूत / द्रवित पसीजा हुआ
द्रुतगामी तेज चलने वाला
दुराशय मन में खोट
दुर्गुण दोष, बुराई
दुर्बोध दुरूह
दृढप्रतिज्ञ प्रतिज्ञा से न टलने वाला
दृष्टिगोचर जो दिखाई पड़ रहा हो
देशाटन दूर प्रदेशों की यात्रा, भ्रमण
देव विधाता
दैहिक शारीरिक
दृष्टव्य देखने योग्य
द्वित्व दोहरापन
दुराशा व्यर्थ की आशा
दुर्दिन बुरे दिन
दुर्लंघ्य जिसे लांघना कठिन हो
दृप्त गर्वोन्मत्त
देदीप्यमान प्रकाशमान
देहातीत आत्मा स्वरूप
देवदुर्विपाक अत्यंत दुर्भाग्य
द्रवण कोमलता का उदय
दृष्टा देखने वाला
द्विविध दो प्रकार का

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *