मूल्यांकन प्रणाली में आमूलचूल परिवर्तन

 – डॉ. रवीन्द्र नाथ तिवारी वर्तमान में प्रचलित शिक्षा प्रणाली शिक्षकों द्वारा अध्यापन और विद्यार्थी को सीखने का पूरा प्रयास परीक्षाओं में अच्छे परिणाम प्राप्त…

राष्ट्रीय शिक्षा नीति : भाषा, कला और संस्कृति के संवर्धन की पहल

 – प्रोफेसर रवीन्द्र नाथ तिवारी भारतीय वाङ्गमय में कला और भाषा का अन्योन्याश्रित सम्बन्ध है तथा ये एक-दूसरे के बिना अधूरे हैं। किसी भी कला…

मातृभाषा में शिक्षा की दिशा में सार्थक पहल

– ललित गर्ग सशक्त भारत-निर्माण एवं प्रभावी शिक्षा के लिए मातृभाषा में शिक्षा की सर्वाधिक महत्वपूर्ण भूमिका है। शिक्षा को अपने समाज एवं राष्ट्र के…

भारतीय ज्ञान परम्परा और राष्ट्रीय शिक्षा नीति

 – डॉ० रविन्द्र नाथ तिवारी भारतीय ज्ञान परंपरा अद्वितीय ज्ञान और प्रज्ञा का प्रतीक है जिसमें ज्ञान और विज्ञान, लौकिक और पारलौकिक, कर्म और धर्म…