पढ़ेंगे तभी बढ़ेंगे – १

✍ दिलीप वसंत बेतकेकर वाचन अध्ययन का पहला पायदान है। अध्ययन की शुरुआत वाचन से ही होती है। आगे तो हम अनेक कौशल्य देखने वाले…

ध्यान रहे लक्ष्य पर

✍ दिलीप वसंत बेतकेकर “हां जी, टिकट दिखाइए जल्दी अपना अपना रेलवे का टिकट निरीक्षक यात्रियों के बीच हाथ में चार्ट लेकर बोला! पांच-छह यात्रियों…

सुनिए कान, मन, आंखों से’!

✍ दिलीप वसंत बेतकेकर धोंडोजी और गुंड्रोजी एक बार रास्ते में मिले, आपस में बातचीत होने लगी! धोंडोजी गुंडों जी से पूछने लगे- कहो गुंडों…

श्रद्धावान लभते ज्ञानम्

✍ दिलीप वसंत बेतकेकर क्या सदैव ‘नारायण नारायण’ जपते रहते हो, इस खंभे में है तेरा नारायण? गुस्से से लाल, तमतमाते चेहरे से हिरण्यकश्यप ने…

शरीर आसन की स्थिति निर्दोष रहे!!

✍ दिलीप वसंत बेतकेकर “हमारा राजू लेटे हुए पढ़ाई करता है कितनी बार कहा उसे कि ऐसी स्थिति में पढ़ाई ना करो, परन्तु मानता ही…

विषय कठिन, राह आसान

– दिलीप वसंत बेतकेकर बुद्धिमत्ता के अनेक प्रकार हैं। प्रो. हावर्ड गार्डनर के मतानुसार प्रत्येक व्यक्ति में सात-आठ प्रकार की बुद्धिमत्ता विद्यमान है- भाषिक, गणितीय,…

मुझे कौन सिखाएगा?

 – दिलीप वसंत बेतकेकर ‘मुझे कौन सिखाएगा?’ कोई भी नहीं! और कोई भी! मुझे कौन सिखाएगा इस प्रश्न के लिए दोनों ही उत्तर सही हैं,…