भारतीय शिक्षा – ज्ञान की बात-11 (ज्ञानार्जन के साधन : चित्त)

 – वासुदेव प्रजापति अन्त:करण का चौथा और अन्तिम साधन है, चित्त। चित्त अद्भुत है, यह बुद्धि व अहंकार से भी सूक्ष्म है। इसे हम एक…

भारतीय शिक्षा – ज्ञान की बात-10 (ज्ञानार्जन के साधन : अहंकार)

 – वासुदेव प्रजापति ज्ञानार्जन के साधनों में अन्त:करण प्रमुख साधन है। अन्त:करण के चारों साधनों में हमने मन और बुद्धि को जाना। बुद्धि के पश्चात्…

भारतीय शिक्षा – ज्ञान की बात-9 (ज्ञानार्जन के साधन : बुद्धि)

 – वासुदेव प्रजापति अब तक हमने जाना कि कर्मेन्द्रियों से ज्ञानेन्द्रियाँ अधिक प्रभावी हैं और ज्ञानेन्द्रियों से मन अधिक प्रभावी है। मन इसलिए अधिक प्रभावी…

भारतीय शिक्षा – ज्ञान की बात-8 (ज्ञानार्जन के साधन : मन)

 – वासुदेव प्रजापति ज्ञान प्राप्त करने के साधनों में अब तक हमने बहिःकरण के अन्तर्गत कर्मेन्द्रियों एवं ज्ञानेन्द्रियों को समझा। हमने यह भी जाना कि…

भारतीय शिक्षा – ज्ञान की बात-7 (ज्ञानार्जन के साधन: अंत:करण)

–  वासुदेव प्रजापति अब तक हमने ज्ञानार्जन के बहिकरण कर्मेन्द्रियों व ज्ञानेन्द्रियों को जाना। ज्ञानार्जन के साधनों को जानने के क्रम में आज हम अन्त:करण…

भारतीय शिक्षा – ज्ञान की बात-6 (ज्ञानार्जन के साधन: ज्ञानेन्द्रियाँ)

– वासुदेव प्रजापति कमेंन्द्रियाँ के समान ही ज्ञानेन्द्रियाँ भी बहिःकरण हैं। अर्थात् ज्ञानेन्द्रियाँ भी ज्ञानार्जन के बाहरी साधन हैं। इनके नाम से ही स्पष्ट है…

भारतीय शिक्षा – ज्ञान की बात-5 (ज्ञानार्जन के साधन: कर्मेन्द्रियाँ)

 – वासुदेव प्रजापति भारतीय शिक्षा के अन्तर्गत् ‘ज्ञान की बात’ नामक स्तम्भ इस बसन्त पंचमी से प्रारम्भ हुआ है, और प्रत्येक पक्ष की पंचमी तिथि…

भारतीय शिक्षा – ज्ञान की बात-4 (ज्ञान के विविध रूप)

 – वासुदेव प्रजापति इससे पूर्व हमने ज्ञान का अर्थ जाना, ब्रह्म क्या है, यह भी जाना तथा ब्रह्म ज्ञान ही परमज्ञान है इसके साथ-साथ अज्ञान…

भारतीय शिक्षा – ज्ञान की बात-3 (ज्ञान की महिमा जाने)

 – वासुदेव प्रजापति पूर्व में हमने जाना कि परम चेतन तत्त्व ब्रह्म को जानना ही ज्ञान है। साथ में यह भी जाना कि ज्ञान अज्ञान…

भारतीय शिक्षा – ज्ञान की बात-2 (आओ, अज्ञान को भी जानें)

 – वासुदेव प्रजापति हम भारतवासी हैं। भारत हमारा देश है। क्या हमने कभी विचार किया कि हमारे देश का नाम भारत ही क्यों है? इस…