हठ का धनी शंभुनारायण

 – गोपाल माहेश्वरी मातृभू घायल दिखे तब घाव अपने कौन गिनता? यातनाएँ क्या डिगाएँ मृत्यु तक की नहीं चिंता।। जिन्हें देश के लिए कुछ करना…

आजादी के मतवाले

 – गोपाल माहेश्वरी बलि देकर भी मातृभूमि का मान बढ़ाना आता है। खेल मृत्यु के साथ शत्रा को धूल चटाना आता है।। वे सब दसवीं-बारहवीं…

जोशीला लक्ष्मण जोशी

  – गोपाल माहेश्वरी प्राण छोड़े प्रण न तोड़े वीर कहलाते वही हैं। काँच बिखरे टूट कर, हर चोट हीरे ने सही है।। वह युग…

शांति घोष-सुनीति चौधुरी

धन्य वे शिक्षक, सिखाते देश पर बलिदान होना। राष्ट्र पहले बाद में हम, ध्येय के हित प्राण खोना।। आपने विद्यालय के प्रधानाचार्य से उनके कक्ष…

सीताराम-शंकर और ढोंढी का बलिदान

 – गोपाल माहेश्वरी छोटे-छोटे जौ-तिल-तण्डुल मिल आहुति बन जल जाते हैं। तो महायज्ञ में उपयोगी सहयोग सपफल कर पाते हैं। स्वतंत्रता प्राप्ति के प्रयत्न शस्त्र…

सार्थक जीवन – जीवन घोषाल

 – गोपाल माहेश्वरी सत्याग्रहों की विनय की भाषा न जाने शांति की। धूर्त दुश्मन के लिए भाषा उचित बस क्रांति की।। बसंत पंचमी का दिन…

अग्रिम पंक्ति का योद्धा – हरिगोपाल बल

 – गोपाल माहेश्वरी संकटों में देख माँ को पुत्र क्यों ना क्रुद्ध हो, क्या अवस्था अर्थ रखती छिड़ चुका जब युद्ध हो। बंगाल में ‘मास्टर…

बब्बर अकाली-दलीप सिंह

 – गोपाल माहेश्वरी देशद्रोही देश के दुश्मन से भी घातक अधिक है। राह के काँटे कुचलते जो बढ़ें हम वो पथिक हैं। “आजादी कभी गिड़गिड़ाते…

निर्भीक किशोर-ननी गोपाल

 – गोपाल माहेश्वरी कल्पना भी आज उसकी है भला संभव कहीं, यातना यमयातना से बढ़ शहीदों ने सही। “कितने साल के हो?” अंग्रेज़ न्यायाधीश क्रूर…

वीर बालक बिशन सिंह कूका

 – गोपाल महेश्वरी देशधर्म पर बलि हो जाना बचपन से जो सीख चुके। अत्याचार-क्रूरता-पशुता झेल गए पर नहीं झुके।। 1857 का स्वतंत्रता संग्राम सब देशभक्तों…