आर्थिक क्षेत्र में भी राष्ट्रीयता का भाव होना आवश्यक – श्री दत्तोपंत ठेंगड़ी जयंती विशेष

  – प्रहलाद सबनानी श्री दत्तोपंत जी ठेंगड़ी का जन्म 10 नवम्बर, 1920 को, दीपावली के दिन, महाराष्ट्र के वर्धा जिले के आर्वी नामक ग्राम…

Systematic Decimation of India’s Strengths Through Science

 – Jayant Sahasrbhuddhe ​​​​The legendary astrophysicist Dr S Chandrasekhar (1910 1995), a co-recipient of the 1983 Nobel Prize for Physics, was once asked, “Why was…

अध्ययन मजा, नहीं सजा

 – दिलीप वसंत बेतकेकर देखने में यह आता है कि सब लोग अपना घर तो साफ करते हैं पर कचरा इकठ्ठा करके बाहर कहीं भी…

कृत्रिम बुद्धिमत्ता (Artificial Intelligence)

 – रवि कुमार मानव सभ्यता में बुद्धि के विकास की बात कही गई है। पंच कोशीय विकास में विज्ञानमय कोश का विकास अर्थात बुद्धि का…

भारतीय ज्ञान का खजाना-13 (खगोलशास्त्र – भारत की दुनिया को देन)

– प्रशांत पोळ कुछ वर्ष पहले, अर्थात् एकदम सटीक कहें तो अप्रैल 2016 से, मध्यप्रदेश के उज्जैन शहर में सिंहस्थ कुम्भ मेले का आयोजन हुआ।…

भारतीय शिक्षा – ज्ञान की बात 69 (बालक शिक्षा और बालिका शिक्षा- भाग १)

 – वासुदेव प्रजापति शिक्षा क्षेत्र में आज सर्वत्र सहशिक्षा का बोलबाला है। बालक-बालिका ही नहीं अभिभावक भी सहशिक्षा के पक्ष में खड़े दिखाई देते हैं।…

Sister Nivedita “In whose veins the waves of Bharat-devotion used to run” on 28 October, special on Jayanti

– Priyamvada Madhukar Pandey Swami Vivekananda had told sister Nivedita that “For the future children of Bharat, you should become a mother, servant, and friend…

भगिनी निवेदिता का शिक्षा दर्शन

 – रेखा चुड़ासमा मार्गरेट नोबल ब्रिटेन की प्रख्यात शिक्षाविद् ई.स. 1884 में मार्गरेट नोबल ने अपना शिक्षण व्यवसाय प्रारंभ किया, उसका परिचय पेस्टलोजी और फ्रोबेल…

राम की दीवाली

 – गोपाल माहेश्वरी दीपावली का दिन था पर राम प्रातः से ही अनमना बैठा था। त्योहार था पर मन में उत्साह नहीं था। वस्तुतः कोरोनाकाल…

बुनियादी स्तर के लिए राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा 2022 : एक स्वागत योग्य पहल

– डी रामकृष्ण राव अखिल भारतीय अध्यक्ष, विद्या भारती माननीय केन्द्रीय शिक्षा मंत्री श्री धर्मेन्द्र प्रधान द्वारा आज घोषित बुनियादी स्तर के लिए राष्ट्रीय पाठ्यचर्या…